my favourite teacher essay in hindi

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध | my favourite teacher essay in hindi

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध | my favourite teacher essay in hindi : नमस्कार दोस्तों ! अध्यापक/शिक्षक सभी के जीवन में बेहद ही खास होते है। वह जो हमें ज्ञान और शिक्षा देते है उन्ही के बलपर हम जीवन में ऊंची ऊंची मंजिले हासिल कर पाते है।

आज के इस लेख में हमने आपके लिए मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध my favourite teacher essay in hindi लिखा हूं। यह मेरे प्रिय अध्यापक पर निबंध सभी छात्रों के लिए काफी फायदेमंद है। यह निबंध १०० शब्दों में, २०० शब्दों में, ३०० शब्दों में और ५०० शब्दों में लिखा है।

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध | my favourite teacher essay in hindi

मेरे प्रिय शिक्षक पर दस पंक्ति में निबंध | 10 lines on my favourite teacher essay in hindi

  1. श्री रामकृष्ण जोशी सर मेरे सबसे प्रिय शिक्षक है। उनका व्यक्तिमत्व काफी प्रभावी है।
  2. वह हमे अंग्रेजी विषय पढ़ाते हैं। अंग्रेजी पढ़ाने का उनका तरीका बेहद ही निराला है।
  3. मेरे शिक्षक बेहद ही दयालु और प्यार करनेवाले है। वह सभी छात्रों से बेहद प्यार करते हैं।
  4. मेरे प्रिय शिक्षक सभी छात्रों से एक जैसा ही वर्ताव करते हैं। वह किसी भी छात्र के साथ कभी भी भेदभाव नहीं करते।
  5. मेरे प्रिय शिक्षक हमेशा हमें कुछ नया सीखने की उम्मीद देते है। उनका कहना हैं कि बच्चों को हर वक्त कुछ नया सीखने की चाह रखनी चाहिए।
  6. मेरे प्रिय शिक्षक हम सभ छात्रों को अंग्रजी में बोलना आए इसलिए काफी मेहनत करते है।
  7. उनका यही प्रयास होता है कि सभी बच्चे ठीक तरह अंग्रेजी समझ और बोल पाएं।
  8. मेरे प्यारे अध्यापक पढ़ाई में बेहद ही सख्त है। उन्हे होमवर्क समय पर पूरा करके चाहिए होता है।
  9. मेरे प्रिय अध्यापक को अनुशासन बहुत ही प्रिय है। वह सभी छात्रों से हमेशा अनुशासित रहने कि उम्मीद रखते हैं।
  10. मेरे प्रिय शिक्षक श्री जोशी सर हमें बहुत ही अच्छा पढ़ाते हैं। इसलिए वे मेरे सबसे पसंदीदा शिक्षक है।

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध । My favourite teacher essay in hindi (200 शब्दों में)

अध्यापक हर छात्र के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। माता-पिता के बाद अध्यापक ही अच्छे शिष्टाचार की खेती करते हैं, अपने बच्चों को अनुशासित करते हैं। उसकी वजह यह है कि छात्र देश के आदर्श नागरिक के रूप में बनता है। उनके द्वारा प्रदान किया गया ज्ञान जीवन भर के छात्रों के लिए उपयोगी है।

इस प्रकार मेरे व्यक्तित्व पर भी मेरे प्रिय अध्यापक का बहुत अच्छा प्रभाव है। वे मेरे बहुत पसंदीदा शिक्षक हैं। श्री उमेश राउत सर मेरे पसंदीदा शिक्षक हैं। वे हमें इतिहास पढ़ाते हैं। इस विषय को पढ़ाने का उनका अंदाज कुछ अलग है।

राउत सर ने हमें इतिहास का विषय पढ़ाते हुए हमारे सामने वास्तविक घटनाओं को रखा। जब वे इतिहास पढ़ाते हैं, तो ऐसा लगता है जैसे वे हमें कुछ कहानियां सुना रहे हैं। इसलिए हम तुरंत उनके द्वारा पढ़ाए गए इतिहास को समझते हैं।

राउत सर का स्वभाव बहुत शांत और निर्मल है। सर हमेशा छात्रों से प्यार करते हैं। मूल रूप से सर सोलापुर से है, उन्होंने अपनी प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा वहाँ पूरी की। अब वह हमे कक्षा सातवीं में इतिहास पढ़ाते हैं। वे हमेशा हमें नई चीजें सीखने के लिए हमें प्रोत्साहित करते हैं।

राउत सर को अधिक अतिरिक्त किताबे पढ़ना पसंद है। इसलिए वे हमें पुस्तक के साथ-साथ बाहरी ज्ञान भी देते हैं। वे हमेशा हमें नई तकनीकों से अवगत करा रहे हैं। उनके शब्द हमेशा हमारे लिए मूल्यवान होते हैं।

मुझे राउत सर द्वारा पढ़ाया गया इतिहास आज भी याद है। उनके द्वारा सिखाई गई इतिहास की हर घटना आज भी मेरे सामने खड़ी है। इसलिए मुझे राउत सर बहुत पसंद हैं।

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध । My favourite teacher essay in hindi (300 शब्दों में)

मेरे पसंदीदा शिक्षक श्री धनंजय पाटिल सर हैं। वे हमें अंग्रेजी पढ़ाते हैं। वह मेरे सबसे प्रिय शिक्षक हैं। मैं धनंजय सर का भी पसंदीदा छात्र हूं। मैं हमेशा उनका होमवर्क बिना असफलता के करता हूं। इसलिए वे हमेशा मेरी तारीफ करते हैं।

पाटिल सर स्वभाव से बहुत सख्त हैं। उन्हें अनुशासन का बहुत शौक है। उनका विचार है कि कक्षा में आने पर छात्रों को अनुशासन का पालन करना चाहिए। इसलिए सभी बच्चे अनुशासन का पालन बहुत सख्ती से करते हैं। सर उस छात्र को भी सजा देते हैं जो अशिष्ट व्यवहार करता है।

लेकिन सर जितना कठिन है, उतना ही प्यार करने वाला है। वे सभी छात्र से बहुत प्यार करते हैं और उसमें मैं उनका पसंदीदा छात्र हूं। मैं नियमित रूप से और समय पर स्कूल जाता हूं। वह शिक्षक द्वारा दिए गए होमवर्क को भी समय पर पूरा करता है। यह भी कारण है की में से का पसंदीदा छात्र हूं ।

सर का अंग्रेजी सिखाने का तरीका बहुत अनोखा है। सर पढ़ान के दौरान विभिन्न ध्वनियों का उच्चारण करते हैं इसलिए यह बहुत ही रोचक लगता है। वह छात्रों को पढ़ाते समय चुटकुले भी सुनाते है ताकि वे ऊब न जाएं। इसलिए हमारा मनोरंजन भी होता है और सर जो पढ़ाते हैं वह जल्दी समझ भी आता हैं।

पाटिल सर हमें कक्षा में अंग्रेजी में बात करने के लिए मजबूर करते हैं। कक्षा के कुछ छात्र अंग्रेजी ठीक से नहीं बोल पाते हैं इसलिए उनके हास्यपूर्ण शब्दों को सुनने से कक्षा में हंसी आती है। सर सभी छात्रों को अंग्रेजी बोलने के लिए कड़ी मेहनत करवाते हैं। वे हमसे बहुत सारे अंग्रेजी शब्दार्थ को पाठ करा लेते हैं। वे हमें होमवर्क के रूप में अंग्रेजी शब्दार्थ पढ़ने की भी अनुमति देते हैं।

पाटिल सर तब तक बच्चों को क्लास में प्रवेश नहीं देते है जब तक कि उन्होंने अपना होमवर्क पूरा नहीं कर लिया हो। इसलिए यदि होमवर्क पूरा नहीं होता है, तो आपको अपने हाथों से कक्षा के बाहर खड़े रहना पड़ता है। इसलिए सभी छात्र होमवर्क पूरा करते हैं।

पाटिल सर का स्वभाव बहुत प्यार करने वाला है। जिस दिन बच्चे ऊब जाते हैं, सर भी हमें अच्छी बातें बताते हैं और हमें जो कहा जाता है, उससे ज्ञान प्राप्त करने के लिए कहते हैं। इसके अलावा, जब भी कोई पद खाली होता है, हमारी कक्षा में धनंजय पाटिल सर को हमारे खेल शिक्षक के रूप में नियुक्त किया जाता है। सर हमें बहुत अच्छे खेल भी सिखाते हैं।

मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध । My favourite teacher essay in hindi (500 शब्दों में)

शिक्षक हमेशा हर छात्र के लिए सराहनीय होता है। शिक्षक द्वारा छात्रों पर किए गए संस्कार उन्हें जीवन भर के लिए काम आते है। इस संस्कार के बल पर, छात्र अपने भावी जीवन में महान ऊंचाइयों तक पहुंचता है। इन संस्कारों और शिक्षाओं के कारण, वह एक समाज का एक आदर्श नागरिक बन पाता है।

मुझे भी एक अध्यापक बहुत प्रिय है। उनके विचारों से में हमेशा प्रभावित रहा हूं। उनके द्वारा दिए गए ज्ञान का पिटारा आज भी मेरे लिए बहुत उपयोगी है, क्योंकि उनकी शिक्षाओं और संस्कारों के कारण समाज में मेरा हमेशा सम्मान रहा है।

मेरे पसंदीदा शिक्षक श्री रामेश्वर जोशी सर हैं। वे हमें गणित पढ़ाते थे। मैं परभणी के एक प्रतिष्ठित बाल विद्या मंदिर स्कूल में सातवीं कक्षा में था। वहीं पर जोशी सर और मैं पहली बार मिले थे।

जोशी सर हमें गणित सिखाने के लिए हमारी कक्षा में आते थे। वे दिल से बहुत प्यार और दयालु हैं। लेकिन वे केवल उन छात्रों को पसंद करते हैं जो हमेशा अपना होमवर्क कर रहे हैं। मैं उनमें से एक था। मैं सर द्वारा दिया गया होमवर्क हमेशा पूरा करता था और सबसे पहले उन्हें दिखाता था। तो सर हमेशा मेरी तारीफ करते थे।

मैं कक्षा में सर का पसंदीदा छात्र था। मुझे अभी भी याद नहीं है कि उन्होंने मुझे कभी पिता हो। मैं हमेशा उनका आज्ञाकारी छात्र रहा हूं। मैं भी शुरुआत में बहुत नर्वस था। मुझे गणित बहुत कठिन और उबाऊ लगता था। इसके अलावा, मैंने उन शिक्षकों द्वारा पढ़ाए गए गणित विषय को कभी नहीं समझा, जिन्होंने मुझे कक्षा VI तक पढ़ाया था।

मुझे हमेशा गणित में बहुत कम अंक मिलते थे। मैं अपने दोस्तों का देखकर भी होमवर्क लिखता था, इसलिए मेरा दिमाग गणित से उड़ गया था। मुझे गणित का अध्ययन करना बहुत उबाऊ लगता था। इसलिए मैं गणित वर्ग के दौरान पीछे की बेंच पर बैठ जाता और अपने सबसे अच्छे दोस्तों के साथ चैट करता।

लेकिन जब से श्री जोशी सर हमें गणित विषय पढ़ाने आए हैं। तब से, गणित के लिए मेरा दृष्टिकोण बदल गया है। मैं एक ऐसे विषय को समझने लगा था जो मुझे बहुत उबाऊ लगता था। श्री जोशी सर बहुत अच्छे गणित विषय पढ़ाते हैं। साथ ही वह गणित को तब तक दोहराते रहते हैं जब तक कि सभी छात्र समझ न पाए। तो सभी ने से द्वारा पढ़ाए गए गणित को समझ पाते थे।

जोशी सर की गणित पढ़ाने की कला कुछ और थी। वह बहुत सरल तरीके से गणित समझाते थे। उन्होंने न केवल स्मार्ट छात्रों को बल्कि बैक बेंच पर बैठे छात्रों को भी महत्व दिया। जिन लोगों को गणित बहुत कठिन लगता था, उनके लिए सर रविवार को तशिका रखते थे। मेरे पास हमेशा उस तासिका के लिए उपस्थित रहता था।

रविवार की कक्षा में, सर हमें गणित के मूल तत्वों और अवधारणाओं के बारे में समझाते थे। इसलिए गणित में मेरी नींव बहुत ठोस हो गई है। जोशी सर ने गणित का मेरा पसंदीदा विषय बनाया है, जो मुझे कठिन और उबाऊ लगता है।

उनकी वजह से, गणित से मेरा डर दूर हो गया और मैं गणित में एक स्मार्ट छात्र बन गया हूं। मुझे अभी भी याद है जिन गणितीय अवधारणाओं को जोशी सरने मुझे सिखाया था। यह उनकी शिक्षाओं और संस्कारों के कारण है कि मैं आज एक आदर्श नागरिक हूं। इसलिए श्री जोशी मेरे पसंदीदा शिक्षक हैं।

टिप : दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैंने आपके लिए मेरे प्रिय अध्यापक हिंदी निबंध my favourite teacher essay in hindi , मेरी प्रिय अध्यापिका पर हिंदी निबंध, मेरे प्रिय शिक्षक पर निबंध लिखा हूं।

मेरे प्रिय अध्यापक पर निबंध आप सभी को बेहद पसंद आया होगा येसी उम्मीद करता हूं। आप हमें कॉमेंट करके जरूर बताइए कि my favourite teacher essay in hindi आपको कैसा लगा, धन्यवाद…!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *