imgonline com ua CompressToSize CuimVbVt8S 1

मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi

मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi :- पाठशाला हर व्यक्ति के जीवन में बेहद ही महत्वपूर्ण होती है। पाठशाला में जो भी ज्ञान हमे मिलता है वह जिंदगीभर हमे काम आता है। वहीं ज्ञान हमे अच्छी जिंदगी जीना सिखाता है।

My school essay in hindi
मेरी पाठशाला पर हिंदी निबंध

विद्यार्थी मित्रों ! आज के इस पोस्ट में मैंने आपके लिए मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi लिखा हूं। यह मेरी पाठशाला हिंदी निबंध आपके लिए काफी मददगार साबित होगा।

मेरी पाठशाला निबंध पर १० पंक्तियां 10 lines on my school essay in hindi

१) मेरी पाठशाला का नाम बाल विद्या मंदिर है।

२) यह परभणी शहर में स्थापित एक बेहद ही खूबसूरत पाठशाला है।

३) मेरी पाठशाला तीन मंजिली है। इसमें हर मंजिल पर १२ कक्ष है।

४) मेरी पाठशाला लाल रंग से रंगी हुई है। मेरी पाठशाला बेहद ही खूबसूरत लगती है।

५) पाठशाला के पहिले मंजिल पर एक मुख्य अध्यापक कक्ष और बाकी १२ कक्षाएं है।

६) पाठशाला के सामने बेहद है सुंदर बगीचा है। जिसमे सुंदर सुंदर फूलों के पोद्दे है।

७) मेरी पाठशाला में सभी अध्यापक बेहद ही प्यारे और दयालु हैं।

८) मेरी पाठशाला सुबह ७ बजे से शुरू होती है और दोपहर १२ बजे समाप्त होती है।

९) पाठशाला में दोपहर में दो ब्रेक होते है। जिनमे हम सभी मित्र मिलकर खाना खाते हैं।

१०) मेरी पाठशाला मुझे बेहद पसंद है।

मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi (२०० शब्दों में)

मेरी पाठशाला का नाम विद्यामंदिर निकेतन है। यह परभणी जिल्हे के एक गांव में स्थापित बेहद ही खुबसुरत पाठशाला है। मेरी पाठशाला में दो मंजिले है। पाठशाला एक आयतकृती आकार में बंदी हुई है। पाठशाला के आगे के हिस्से में एक बेहद ही बड़ा गेट है। यही गेट हमारी पाठशाला का मुख्य द्वार है जहां से सभी छात्र और अध्यापक पाठशाला में प्रवेश करते हैं।

पाठशाला में ५ अध्यापक और ३ अध्यापिका है। यह सभी हमे बेहद ही प्यार से पढ़ाते है। इन सभी अध्यापकों का यही उद्धिष्ट होता है कि सभी छात्रों को समझ में आए इस तरह बेहद ही आसान तरीके से पढ़ाना । इसलिए हर साल हमारी स्कूल का १००% रिजल्ट लगता है।

मेरी पाठशाला के सभी शिक्षक बेहद ही अच्छे है। इसलिए मुझे मेरी पाठशाला बेहद पसंद है।

मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi (३०० शब्दों में)

मेरी पाठशाला का नाम सारंग स्वामी विद्यालय है। यह पाठशाला शहर के बीच में है। मेरी पाठशाला गुलाबी रंग की है। इसमें तीन मंजिले है। यह एक बहुत ही बड़ी और सुंदर इमारत आहे। मेरे स्कूल की पहली मंजिल पर एक प्रधानाध्यापक का कमरा, एक प्रयोगशाला और बारह कक्षाएं हैं ।

दूसरी मंजिल में 12 क्लासरूम और एक कंप्यूटर कमरा भी है। तीसरी मंजिल पर 5 क्लासरूम और एक बड़ा हॉल है जहाँ हमारे स्कूल की सभी गतिविधियाँ आयोजित होती हैं।

हमारे स्कूल के हेडमास्टर श्री जोशी सर हैं। वे बहुत शांत हैं और दिल से प्यार करते हैं। उन्होंने हमें कभी नहीं मारा। लेकिन उन्हें अनुशासन पसंद है। किसी भी कक्षा में जाने के बाद, बच्चों से अनुशासित रहने की उम्मीद की जाती है। सर भी दुष्कर्म करने वाले छात्र को सजा देता है। जोशी सर हमें अंग्रेजी व्याकरण सिखाते हैं। उन्होंने जो अंग्रेजी व्याकरण पढ़ाया, उसे समझना हमारे लिए आसान होता है।

हमारे स्कूल के सामने एक बहुत ही सुंदर बगीचा है। यह पार्क हमारे स्कूल को सुशोभित करता है। इसमें कई रंग-बिरंगे फूल वाले पौधे हैं। इसमें कई छायादार पेड़ भी हैं। हम स्कूल शुरू होने से पहले और स्कूल के बाद इस पार्क में खेलते हैं। इसमें छात्रों के साथ खेलने के लिए कई खिलौने हैं।

हमारे स्कूल (my school essay in marathi) में एक बहुत बड़ा खेल का मैदान भी है। हमारे स्कूल के सभी खेल मैच इसी मैदान पर खेले जाते हैं। यह वह जगह है जहाँ छात्रों द्वारा खेल का अभ्यास किया जाता है। हमारे स्कूल में खेल का अभ्यास करने के लिए एक विशेष शिक्षक हैं। वह छात्रों से खेल कि बहुत अच्छी तैयारी करवाते हैं। तो हमारे स्कूल ने कबड्डी, खो खो, फुटबॉल जैसे खेलों में कई पदक जीते हैं।

हमारे स्कूल में कई खेलों के उत्सव का आयोजन किया जाता है। शहर के कई स्कूल इसमें भाग लेते हैं। इस खेल प्रतियोगिता में शीर्ष पर आने वाले स्कूल को पुरस्कार और पदक से सम्मानित किया जाता है। हमारे विद्यालय में शिक्षक छात्रों के समग्र विकास के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। न केवल किताबी शिक्षा बल्कि उनकी सतर्कता और समर्पण भी सबसे अधिक आवश्यक है।

स्कूल कला प्रतियोगिताओं जैसे कि वक्तृत्व प्रतियोगिता, नृत्य प्रतियोगिता, गायन प्रतियोगिता, चित्रकला प्रतियोगिता आदि का आयोजन करता है। इससे छात्रों की कलात्मक प्रतिभा विकसित होती है। उनकी हीन भावना दूर होती है और उनका आत्मविश्वास बढ़ता है।

हमारे विद्यालय में सभी छात्रों को समृद्ध बनाने का प्रयास किया जाता है। इस स्कूल ने मुझे इतनी खूबसूरत यादें दी हैं जो हमेशा मेरी याद में रहेंगी। मेरे स्कूल ने मुझे बहुत सारे अच्छे संस्कार दिए है। इसलिए मैं अपने स्कूल से बहुत प्यार करता हूं।

मेरी पाठशाला पर निबंध my school essay in hindi (५०० शब्दों में)

स्कूल का हर व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। स्कूल सभी को प्रिय है। स्कूल से प्राप्त ज्ञान जीवन भर के लिए पर्याप्त है। आदर्श छात्र हर स्कूल से बनते हैं और उनका पालन-पोषण अच्छी तरह से होता है। इसलिए किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व को प्रभावित करने में स्कूल एक महत्वपूर्ण कारक है।

मेरे विद्यालय का नाम जिला परिषद प्राथमिक विद्यालय है। मेरा स्कूल सातवीं कक्षा तक है। हमें आगे की शिक्षा पाने के लिए तालुका जाना होतो है। मेरे स्कूल में एक मंजिल है। यह स्कूल कई रंगों में रंगा हुआ है।

स्कूल की दीवार में समीक्षा, वर्णमाला, अक्षर, फूलों के नाम, फलों के नाम, सब्जियों के नाम, जानवरों और पक्षियों के नाम इन्के चार्ट बनते हुयहैं। हमारे स्कूल में, दीवारों पर जानवरों, पक्षियों और फूलों के सुंदर चित्र चित्रित किए गए हैं। इसलिए स्कूल बेहद सुंदर दिखता है।

हमारा स्कूल भवन बहुत छोटा है। लेकिन यह हमारे लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। हमारे स्कूल में 10 क्लासरूम और एक हेडमास्टर का कमरा है। हमारे विद्यालय में एक कंप्यूटर कक्ष भी है। लेकिन हमारे स्कूल में शहर के स्कूल जैसा बड़ा हॉल नहीं है। लेकिन हम इससे कभी नहीं चूके। क्योंकि हमारे स्कूल के सामने एक बड़ा मैदान है। इसलिए, स्कूल में सभी कार्यक्रम एक ही जमीन पर आयोजित किए जाते हैं।

हमारे स्कूल में छात्रों की कलात्मक प्रतिभा को विकसित करने के लिए हर साल कई समारोहों का आयोजन किया जाता है। इसमें वक्तृत्व प्रतियोगिताएं, नृत्य प्रतियोगिताएं, गायन प्रतियोगिताएं हैं। सभी छात्र बड़े उत्साह के साथ भाग लेते हैं।

विजेता प्रतियोगियों को पुरस्कार मिलते हैं और जिन छात्रों को पुरस्कार नहीं मिलते हैं उन्हें अगली प्रतियोगिता में पुरस्कार प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इन प्रतियोगिताओं में, छात्रों की कलात्मक प्रतिभा न केवल विकसित होती है, बल्कि एक साहसिक रवैया भी विकसित करती है।

हमारे स्कूल के मैदान में कई खेलों का भी आयोजन किया जाता है। इसके लिए, हर साल एक महीने के खेल उत्सव का आयोजन किया जाता है। कबड्डी, क्रिकेट, खो खो, लेमन स्पून, बैग रेस जैसे खेल इस खेल उत्सव में खेले जाते हैं।

विजेता छात्रों को गणतंत्र दिवस पर पुरस्कार दिया जाता है। यह त्योहार बहुत ही रोमांचक होता है। मैच बहुत रंगीन होते हैं। इन मैचों को देखना काफी मजेदार होता है। हम हर साल इस खेल उत्सव का इंतजार करते हैं।

हमारा स्कूल हर साल फरवरी के महीने में एक स्कूल ट्रिप भी आयोजित करता है। हमारी स्कूल ट्रिप हर साल कई पर्यटन स्थलों को देखने जाती है। मैं हमेशा स्कूल ट्रिप में हिस्सा लेता हूं। हमारा विद्यालय बहुत ही उचित शुल्क पर ट्रिप निकलता है। इसलिए बहुत सारे छात्र यात्रा पर जाने के लिए तैयार होते हैं। स्कूल ट्रिप कई पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी प्रदान करती है और हमारा मनोरंजन भी होता है।

हमारा स्कूल सुबह दस बजे शुरू होता है और शाम चार बजे समाप्त होता है। हमारे स्कूल में दोपहर के एक बजे दोपहर के भोजन का अवकाश होता है। इसमें हम सभी छात्र एक साथ भोजन करते हैं।

हमारा स्कूल कई प्रकृति संरक्षण कार्यक्रमों की मेजबानी करता है। इनमें सड़क किनारे वृक्षारोपण और नदी बेसिन की सफाई शामिल है। हमारे स्कूल में, शैक्षिक ज्ञान के साथ, अतिरिक्त ज्ञान भी प्रदान किया जाता है।

हमारे विद्यालय (my school essay in hindi) के सभी शिक्षक छात्रों के समग्र विकास के लिए प्रयास करते हैं। इसलिए हमारे स्कूल से बाहर निकलने वाले प्रत्येक छात्र को एक आदर्श छात्र के रूप में प्रतिष्ठा मिलती है। मुझे अपने स्कूल से बहुत प्यार है। मेरा विद्यालय मेरे लिए आराध्य है।

टीप : आज के इस पोस्ट मे हमने मेरी पाठशाला पर हिंदी निबंध my school essay in hindi इस विषय पर निबंध लिखा। यह निबंध सभी छात्रों के लिए काफी फायदेमंद है।

आपको मेरी पाठशाला हिंदी निबंध my school essay in hindi यह निबंध कैसा लगा कॉमेंट करके जरूर बतिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *