imgonline com ua CompressToSize QXpxBuQ9xu9Ob 1

20+ Tips seo friendly article kaise likhe in 2020

क्या आपकी article गूगल में रैंक नहीं होती है? यदि हां तो आपको इस आर्टिकल को जरूर ध्यान से पढ़ना चाहिए क्योंकि आज हम आपको बताने वाले है की seo friendly article kaise likhe जो कि आपको google के टॉप पेजेस में rank करने में help करेगा।
आपकी articles गूगल में rank नहीं होती है इसका मतलब है कि आप seo friendly article नहीं लिखते है। जिसकी वजह से आपकी कोई भी post गूगल में रैंक नहीं हो पाती और नहीं आपकी blog पर organic traffic आता है।
 
यदि आप बिना seo के post को rank करना चाहते है तो आप blogging को भूल जाइए क्योंकि यह संभव नहीं है। आपको किसी भी post को गूगल में रैंक करने के लिए पहले उसका अच्छी तरह से seo करना ही होगा तब जाके आपकी seo friendly post गूगल के पहले पेज के पहले नंबर पे rank हो सकती है। आपको seo friendly post kaise likhe के बारे में कोई चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। यह बेहद ज्यादा कठिन काम नहीं है। आप भी अपनी किसी भी post/article का seo कर सकते है। इसके लिए में आपको कुछ seo tips दूंगा आपको उसे follow करना है।
 
आपको तो पता ही होगा कि seo साधारण दो प्रकार का होता है:
  1. On page seo
  2. Off page seo
दोन्हो ही google में पोस्ट को रैंक करने के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन आज हम post में on page seo कैसे करें के बारे में बात करेंगे। क्योंकि यही सिखना सबसे जरूरी है, यही आपकी post रैंक कराने का सबसे बड़ा फैक्टर है। आजकल देखा जा रहा है कि google सिर्फ on page seo को ही रैंकिंग में ज्यादा महत्व दे रहा हैै। आप low compitition keywords पर बिना off page seo करें भी रैंक कर सकते है। लेकिन यदि keyword compition ज्यादा हो तो आपको off page seo का ही सहारा लेना पड़ता है।
 

Seo friendly article kaise likhe (2020 में seo friendly आर्टिकल कैसे लिखे?)

चलिए अब हम बात करते है कि seo friendly article कैसे लिखते है। इसके लिए आपको आर्टिकल लिखते समय कुछ चीजों को ध्यान रखना है। आप मेरी दी गई tips को अपनी article में अपनाएं आपकी भी post गूगल में रैंक हो पाएगी।लेकिन आपको seo के साथ साथ आर्टिकल का content भी अच्छा लिखना है।
 
Seo friendly post kaise likhe- मैंने आपके लिए 23+ ऐसी seo tips बताई है जो में खुद इस्तेमाल करता हूं और मेरी articles रैंक भी होती है। आप भी इन चीजों को नोट करो आपको भी इससे जरूर फायदा होगा।

Niche के नुसार टॉपिक को चुनें

सबसे पहले आपको अपने niche के अनुसार topic को ढूंढना है। आप इस चीज का जरूर ध्यान दें कि आपकी आर्टिकल का टॉपिक आपकी ब्लॉग के niche से related ही हो। जिससे आपको रैंक करने में आसानी हो जाती है। यदि संभव हो तो fresh trending topics पर आर्टिकल लिखे क्योंकि google हमेशा trending topics को ज्यादा promote करता है।
 
यदि आपको नहीं पता है की trending topics konse है तो आप google trends का इस्तेमाल कर सकते है। यहां से आपको मार्केट में trending topics के बारे में पता चलेगा। आप यहां से किसी low compitition topic को चुन सकते है।
 

टॉपिक पर आवश्यक जानकारी इकट्ठा करें

आपने आर्टिकल का टॉपिक तो चुन लिया अब आपको उस टॉपिक पर आवश्यक जानकारी इकट्ठा करनी है। इसके लिए आप इंटरनेट और किताबों का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन याद रखें कि आपको सिर्फ वहां से जानकारी को इकठ्ठा करना है, आपको यहां से किसी भी तरह का content copy नहीं करना है। यदि आप content को कॉपी करते हैं तो आप मुसीबत में पड़ सकते हैं।
 
यदि आपको किसी author द्वारा लिखी defination या कुछ महत्वपूर्ण शब्दों को अपनी आर्टिकल में add करना चाहते है तो आप ऐसा बिल्कुल कर सकते है लेकिन आपको उस जानकारी का source जरूर लिखना है। Source मतलब आपने यह defination या कुछ शब्द कहां से लिखे है।
 

Keyword research करें

अब आपको अपनी आर्टिकल के लिए Keyword research  करना है। इसका मतलब आपको ऐसे keywords को ढूंढना है जो कि google पर लोगों द्वारा सबसे ज्यादा सर्च किए जाते हैं।आप सुरु में low compitition वाले keywords ही टारगेट करें जो कि जल्दी रैंक हो जाते है। लेकिन याद रहे की इन keywords पर search volume भी अच्छा हो। नहीं तो यदि आपकी पोस्ट किसी keyword पर रैंक भी ही जाए और उस keyword पर कुछ भी search volume ही नहीं है तो इसका आपको कुछ भी फायदा नहीं होगा। क्योंकि इससे आपकी ब्लॉग पर traffic ही नहीं आएगा।
 
यदि आपको नहीं पता है की keyword research कैसे करें तो आप इस link पर क्लिक करके पढ़ सकते है। मैंने पहले से ही keyword research पर detail में आर्टिकल लिखीं है। आप इसे जरूर पढे।
 

LSI keywords का उपयोग करें (Find LSI Keywords)

जब भी आप किसी keyword को गूगल में सर्च करते है गूगल आपको page के नीचे उसके related keywords को show करता है। जहां पर title लीखा होता है कि people also search for और उसके नीचे keywords होते है उन्हे ही LSI Keywords कहते है।
 
इन LSI Keywords को अपनी आर्टिकल में जरूर लिखे जिससे आपको अच्छा रिजल्ट मिलेगा। Google को लगेगा कि लोगों को इस keyword के बारे में जो – जो जानकारी चाहिए वे सारी जानकारी इस आर्टिकल में है इसलिए google आपकी article को रैंक कर सकता है।
 

User intent को समझकर content लिखे

User intent का मतलब होता है यूजर जिस चीज के बारे में जानकारी चाहता है, और जिस प्रकार की जानकारी उसे चाहिए वह सारी जानकारी आप उसे provide करें। मतलब आपको user friendly content लिखना है जिससे कि यूजर की help हो जाए।
 
 आप ऐसा बिल्कुल ही ना करें की आप title कुछ और लीख रहे है और आर्टिकल में कुछ और ही जनकारी provide कर रहे हैं। इससे user नाराज होकर आपकी आर्टिकल से किसी और दूसरे के आर्टिकल पर bounce हो जाएगा। ऐसे में वो दुबारा आपकी ब्लॉग पर आने की चाह भी नहीं करेगा। इसलिए आप ऐसा content लिखो जिससे यूजर का value addition हो और आपकी आर्टिकल से उसको कुछ मदद मिले, उसकी समस्या हल हो जाएं।
 

भाषा सरल और स्पष्ट हो

आप जिस भाषा में आर्टिकल लीख रहे हो वह सरल और स्पष्ट होनी चाहिए जिससे यूजर को जानकारी समझने में आसानी हो। आप आपकी लेख में जटिल शब्दों का बिलकुल ही प्रयोग ना करें जिससे कि यूजर जानकारी समझने में परेशान हो।
यदि आप बोलचाल कि भाषा में आर्टिकल लिखते है तो अच्छा रहेगा और आप ऐसा लिखे की जिससे यूजर को लगे कि लेखक हमसे ही बात के रहा है। इससे आपके और यूजर के बीच एक bonding बनेगी और यूजर आपकी आर्टिकल अंत तक पढ़ेगा।
 

अनावश्यक विस्तार न करें

हां यह चीज नए bloggers को समझने की जरूरत है। क्योंकि उन्हें लगता है कि आर्टिकल जितना बड़ा होगा उतना उपर रैंक करेगा, यह चीज कुछ हद तक सही है लेकिन उसके लिए आपका quality content होना चाहिए। 
 
यदि आप सिर्फ आर्टिकल की length बढ़ान के लिए आर्टिकल को अनावश्यक बढ़ा रहे हैं, उसमे अनावश्यक चीजे लीख रहे हैं तो इससे आपको कुछ भी फायदा नहीं होगा। इससे यूजर को समझ आएगा और वह दूसरी आर्टिकल्स पर bounce हो जाएगा। क्योंकि आजकल कोई भी यूजर बकवास पढ़ना नहीं चाहता उसे quality content चाहिए। इसलिए आप भी content को बढ़ाने की चक्कर में उसमे अनावश्यक चीजे ना लिखें।
 

Article त्रुटिरहित हो (content में grammatical error ना हो)

आर्टिकल को लिखते समय आप grammatical errors जैसे कि spelling mistake आदी ना करें। आप इसके लिए gramatical errors finding tools का इस्तेमाल के सकते है। गूगल ऐसे बहुत सारे टूल्स मौजूद है जो content की grammatical errors को दर्शाते है।
 
लिस्टिंग टूल का इस्तेमाल करे 
दोस्तों आप आपकी जानकारी को समझाने के लिए लिस्टिंग टूल का उपयोग कर सकते है। यह आपको किसी चीजों की लिस्ट बनने में हेल्प करेगा। जैसे मान लीजिये की आप top 10 blogger templates के बारे में एक आर्टिकल लिख रहे है और उसमे आपको top 10 blogger templates की list  बनानी है तो आप इस listing tool  इस्तेमाल कर सकते है। इसमें आप दो तरह की lists बना सकते है –
  1. ordered list 
  2. unordered list 
आर्टिकल में list लगाने से आर्टिकल attractive और user friendly  दीखता है। इसलिए संभव हो तो आर्टिकल में लिस्ट जरूर लगाए। 
 

table लगाए 

आर्टिकल में जहाँ पर आवश्यक है वहां पर table जरूर लगाए। इससे आप बड़ी और जटिल जानकारी को आसानीसे table बनाकर समझा सकते है। यह आपकी आर्टिकल को एक सुन्दर लुक देता है और इससे यूजर को जानकारी भी जल्दी समझ आती है। 
 

heading /subheading का सही उपयोग करे 

 आपको आपकी आर्टिकल में सही जगह पर heading /subheading का  उपयोग करना है। यह seo के लिए बेहद ही जरूरी है।आप कोशिस करे की आपकी  heading और subheading में कम से कम एक बार तो targeted keyword को शामिल करें। इससे आपको targeted keyword पर रैंक करने में हेल्प मिलेगी। 
 
आप आर्टिकल में सभी headings H1 to H6 का सही तरह से इस्तेमाल करे। आपको इन सभी हेडिंग्स की size का भी पता होना चाहिए जिससे आप उनको सही जगह पर उपयोग कर सखें  ।  जैसे आप  main heading के लिए H1 का उपयोग करे subheading के लिए  H2 का उपयोग किया  जाता है।  सभी heading tags का क्रम कुछ इस तरह होता हैं  H6 > H5 >  H4 > H3 > H2 > H1  
 

unique content लिखें 

आपको यह जरूर ध्यान रखना है की आपका आर्टिकल unique है। मतलब आपने जितना भी content लिखा है वः सभी खुद से लिखा हो, आपको किसी का भी  content को कॉपी करके नहीं लिखना है। इससे आपको आर्टिकल रैंकिंग में दिक्कत आएगी। आपकी ब्लॉग पर copyright strike भी आ सकता है. इसलिए इस चीज का जरूर ध्यान रखे की आप किसी का content को copy – paste नहीं कर रहे हैं। 
 
यदि आपकी ब्लॉग पर copyright strike आ गया तो फिर आपकी पूरी मेहनत पानी में गयी क्योंकि google कभी भी copyrighted content को promote नहीं करता है। ऐस में आपकी कोई भी पोस्ट रैंक नहीं करेगी , जो पोस्ट rank हुई थी उनकी भी रैंक कम हो जाएगी। इसलिए कभी भी  copyrighted content को ना लिखे सिर्फ unique content ही follow करें। 
 
आपने लिखा हुआ कंटेंट unique है की नहीं चेक करने के लिए आप plagarism tool का इस्तेमाल कर सकते है। यह टूल आपको बताएगा की आपका कंटेंट कितना यूनिक है। यदि यह टूल 90 % से ऊपर दिखा रहा है तभी content को इस्तेमाल करें। यदि 50 % के निचे है तो उस कंटेंट को इस्तेमाल न करे क्योँकि ऐसे कंटेंट कभी भी रैंक नहीं होते है। 
 

long article लिखें 

आप आर्टिकल लिखते समय थोड़ा बड़ा लिखे। ऐसा नहीं है की सिर्फ बड़े आर्टिकल ही रैंक होते है, लेकिन यदि आपकी आर्टिकल की length थोड़ी बड़ी है तो ज्यादा जानकारी होने के कारन पोस्ट को रैंक होने के चान्सेस बढ़ जाते है।  मैंने अक्सर देखा है की जो आर्टिकल ज्यादा बड़े है वही गूगल के पहले नंबर पे रैंक होते है। 
 
इसलिए आप कम से कम 1000 words के ऊपर ही आर्टिकल की length रखे। यदि compitition ज्यादा है तो आप कंटेंट को ज्यादा बड़ा लिखने की  कोशिस करें। सिर्फ बड़ा आर्टिकल नहीं चलेगा आपका quality content होना चहिये।
 

attractive title दें 

आपको पूरी आर्टिकल को लिखने के बाद एक अच्छा सा attractive title अर्टिकल को देना है। आपका आर्टिकल जितना ज्यादा attractive और cachy है ,उतने ज्यादा  लोग आपकी आर्टिकल पे क्लिक करके आपकी आर्टिकल पढ़ेंगे। इसलिए आप इस चीज को जरूर ध्यान रखें। 
 
आपको title में targeted keyword को जरूर इस्तेमाल करना है, इससे आपको आर्टिकल rank करने में हेल्प मिलेगी। यदि संभव है तो आप title में Top 10 , 10 + जैसे शब्दों को add करें। जिससे आपका  seo  optimized article बन जायेगा। 
 

Targeted keywords को highlight करें

आपने जिन keywords को अपनी आर्टिकल में लिखा है आप उन्हे जरूर highlight करें। इससे गूगल को जल्दी समझ आएगा कि यह जानकारी किन keywords पर लिखी गई है और इससे रैंक करना आसान हो जाता हैं।
 

Internal linking करें

Internal linking kya hai- जब आप एक ही domain के pages को एक साथ link के जरिए जोड़ते हो तो उसे internal linking कहा जाता है। जैसे आपने देखा होगा कि किसी आर्टिकल में उससे related आर्टिकल्स की link दी होती है और यह सभी आर्टिकल्स एक ही डोमेन से जुड़े होते है तब उसे internal linking कहते है।
जैसे मैंने इस पोस्ट में नीचे कुछ इसके रिलेटेड आर्टिकल्स को लिंक किया हूं –
Internal linking करके आप आर्टिकल में उससे related आर्टिकल्स की लिंक दे सकते है। यदि आपका आर्टिकल रैंक हुआ तो उससे रिलेटेड आर्टिकल्स में भी ट्रैफिक आएगा। इसलिए आप अपनी पोस्ट में पुरानी पोस्ट की लिंक जरूर दे और इससे कंटेंट की क्वालिटी भी बढ़ जाती है।
 

External linking करें

External linking kya hai- जब आप किसी आर्टिकल में उससे रिलेटेड किसी और ब्लॉग की आर्टिकल्स की link देते है तो उसे external linking कहा जाता है।
 
आप external linking करके आपकी दूसरी ब्लॉग कि आर्टिकल्स की लिंक भी आप इस आर्टिकल में दे सकते है। इससे आपको एक ब्लॉग से दूसरे ब्लॉग में traffic भेजने में मदद मिलेगी और यह आपकी आर्टिकल की authority भी बढ़ाता है यदि आप किसी high authority वाले ब्लॉग को आपनी आर्टिकल से लिंक करते है तो।
 

Conclusion लिखना न भूले

पूरा आर्टिकल लिखने के बाद आप अंत में conclusion जरूर लिखे। इससे यूजर को आपने जो जानकारी पूरी आर्टिकल में बताए है उसका सारांश समझ आता है।इसे लिखने से आप यूजर को काफी कम लाइनों में आर्टिकल का पूरा हेतु बता सकते है।
 
Conclusion में आप अपनी targeted keyword को भी लिखे। आप conclusion में अपनी यूजर्स को पोस्ट को social media पर शेयर करने के लिए appeal भी के सकते है और आप next post किस topic पे लिख रहे है इसकी जानकारी भी दे सकते है। आप पोस्ट के अंत यूजर को कुछ message भी से सकते है।
 

Post settings लिखें

Article पूरा लिखकर होने के बाद आपको उसकी post settings करनी है। मतलब आपको permalink, discription लिखना है। यह seo का सबसे महत्वपूर्ण अंग है जो कि article ranking में सबसे ज्यादा मदद करता है। इसलिए आपको इसे अच्छी तरह से लिखना है।

Image को optimize करें

यदि आप आर्टिकल में इमेज लगाते है तो आपको उस इमेज को optimize करना जरूरी होता है ताकि वह इमेज भी रैंक हो जाएं। यदि आपकी image भी किसी keyword पर रैंक कर गई तो आपको बहुत traffic मिल सकता है। इसलिए image को भी optimize करना seo के लिए जरूरी हो जाता हैं।
 
Image को optimize करना मतलब आपको उसका title tag, alt tag लिखना है इसमें आप keywords का जरूर इस्तेमाल करें ताकि वह इमेज उन keywords पर सर्च इंजन में show हो जाए। आपको इमेज का caption भी लिखना है।
 

Seo friendly permalink लिखे

अब आपको आपकी आर्टिकल का permalink लिखना है, जो कि आपकी आर्टिकल का url होगा। आपको यहां पर custom permalink लिखा हुआ मिलेगा पर आपको उस edit करके दुबारा लिखना है।
 
आपको permalink में targeted keyword को लिखना है। आपको permalink में in, on, of, जैसे words नहीं लिखने है।
 
Seo friendly permalink: seo kya hai hindi
Not Seo friendly permalink: seo kya hai in hindi
 

Discription लिखें

अब आपको अंत में एक छोटा सा discription लिखना है। यह discription यूजर्स को गूगल के सर्च रिजल्ट्स में आपकी आर्टिकल के title के नीचे दिखेगा।
 
Discription में आप targeted keyword का जरूर जिक्र करें।
 
Conclusion- seo friendly article कैसे लिखें
दोस्तों आज की इस पोस्ट में हमने seo friendly article kaise likhe और seo friendly post kaise likhe के  बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी हासिल की। मैंने आपको seo friendly article लिखने के लिए 20+ टिप्स बताई है आप उन्हे जरूर फॉलो करें आपकी भी articles गूगल में rank हो जाएगी।
 
यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो आप इसे जरूर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर करें। दोस्तों आज के लिए इतना ही फिर मिलेंगे कुछ और नई रोचक जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद!!!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *